बीजेपी नेता ने कहा- बड़े लोगों के साथ सोए बिना न्यूज रीडर-रिपोर्टर नहीं बन सकती हैं महिलाएं

चेन्नई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान महिला पत्रकार का कथित तौर पर गाल छूने के मामले में तमिनाडु के गवर्नर बनवारी लाल पुरोहित ने माफी मांग ली है. लेकिन, इसी दौरान एक बीजेपी नेता का फेसबुक पोस्ट वायरल हो गया है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, बीजेपी नेता एसवी शेखर ने फेसबुक पोस्ट में महिला पत्रकारों को लेकर अभद्र टिप्पणी की है.

खबर के मुताबिक, बीजेपी नेता ने ‘Madurai University, Governor and the Virgin Cheeks of a Girl’ (मधुरई यूनिवर्सिटी, गवर्नर एंड द वर्जिन चीक्स ऑफ अ गर्ल) टाइटल से एक पोस्ट किया. उन्होंने दावा किया कि यूनिवर्सिटी की तुलना में मीडिया हाउस में महिलाओं के साथ ज्यादा यौन दुर्रव्यवहार होता है. इसमें उन्होंने ये भी लिखा है कि महिला बड़े लोगों के साथ सोए बिना न्यूज रीडर या रिपोर्टर नहीं बन सकती है.

कड़वी सच्चाई आई सामने
एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक बीजेपी नेता ने पोस्ट में लिखा है, ये कड़वी सच्चाई हाल ही में हुए शिकायत के बाद सामने आ गई है. इन महिलाओं ने गवर्नर पर सवाल उठाए हैं. मीडिया के लोग चीप (तुच्छ), नीच, बेढब और असभ्य होते हैं. इसमें कुछ ही अपवाद हैं, जिनका मैं सम्मान करता हूं. पूरी की पूरी तमिलनाडु मीडिया अपराधियों, धूर्तों और ब्लैकमेलर्स के हाथ में है.

पोस्ट से किया इनकार
हालांकि, बीजेपी नेता ने अपने फेसबुक से ये पोस्ट हटा लिया है. शेखर के एक फॉलोवर ने फेसबुक पर ही लिखा है कि ये पोस्ट शेखर ने नहीं लिखा था. ये किसी और ने लिख दिया है. वहीं, दूसरी ओर बताया जा रहा है कि बीजेपी नेता के इस पोस्ट के खिलाफ पत्रकार शुक्रवार को प्रदर्शन करेंगे.

ये था मामला
बता दें कि तमिलनाडु के गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित ने एक महिला पत्रकार के सवाल पर उसकी गाल थपथपा दी थी. विपक्षी द्रमुक ने घटना को संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति का ‘ अशोभनीय ’ कृत्य करार दिया ता. यह घटना उस समय हुई थी जब 78 वर्षीय राज्यपाल राजभवन में भीड़-भाड़ वाले प्रेस कांफ्रेंस स्थल से जा रहे थे. द्रमुक की राज्यसभा सदस्य कनिमोई ने ट्वीट किया , ‘‘अगर संदेह नहीं भी किया जाए तब भी सार्वजनिक पद पर बैठे एक व्यक्ति को इसकी मर्यादा समझनी चाहिए. एक महिला पत्रकार के निजी अंग को छूकर गरिमा परिचय नहीं दिया या किसी भी इंसान द्वारा दिखाया जाने वाला सम्मान नहीं दर्शाया. ’’
Via India.com



Posted in: Hindi